खता ज़िन्दगी से

उस तरफ इश्क का जनाज़ा है
इस तरफ मुहब्बत का आगाज़ है

उस तरफ ग़मों की तन्हाई है
इस तरफ पलों की कहानी है

उस तरफ बादलों की परछाई है
इस तरफ मौसम की अंगड़ाई है

उस तरफ आब्लापों पे अजमाइश है
इस तरफ ज़िन्दगी की फरमाइश है

उस तरफ सदकों की गुज़ारिश है
इस तरफ सहर की हसीं शुरुआत है

पर खता ज़िन्दगी से ये है कि,
उस तरफ हम खड़े हैं,
और इस तरफ तुम

11 thoughts on “खता ज़िन्दगी से

  1. I know it doesn’t matter to you, but this one won’t qualify as a ghazal. I like, but!

    Us taraf office ka sada hua khaana hai, is taraf mahakti biryani…

  2. @Sainani: it’s one of my all time fav films.🙂
    its a good nazm. But after reading the first line, I could almost guess how the second line is going to end. So it didn’t quite surprise me! but it’s good anyways🙂

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s